इस दिल को तो एक बार को, बहला कर चुप करा लूँगा, पर इस दिमाग का क्या करूँ, जिसका तुमने दही कर दिया है। Iss Dil Ko To Ek Baar Ko, Bahla Kar Chup Kara Lunga, Par Iss Dimaag Ka Kya Karun, Jiska Tumne Dahi Kar Diya Hai.

तारीफ के काबिल हम कहाँ, चर्चा तो आपकी चलती है, सब कुछ तो है आपके पास, बस सींग और पूंछ की कमी खलती है। Tareef Ke Kaabil Hum Kahan, Charcha To Aapki Chalti Hai, Sab Kuchh To Hai Aapke Paas, Bas Seeng Aur Poonchh Ki Kami Khalti Hai.

दिल का दर्द दिल तोड़ने वाला क्या जाने, प्यार के रिवाजों को ये ज़माना क्या जाने, होती है इतनी तकलीफ लड़की पटाने में, ये घर बैठा लड़की का बाप क्या जाने। Dil Ka Dard Dil Todne Wala Kya Jaane, Pyar Ke Riwajo Ko Ye Zamana Kya Jaane, Hoti Hai Kitni Takleef Ladki Pataane Mein, Ye Ghar Baitha Ladki Ka Baap Kya Jaane.

चली जाती है वो ब्यूटी पार्लर में यूं, उनका मकसद है मिशाल-ए-हूर हो जाना, अब कौन समझाये इन पागल लड़कियों को, मुमकिन नहीं किशमिश का अंगूर हो जाना। Chali Jati Hain Wo Beauty Parlour Mein Yoon, Unka Maksad Hai Misaal-e-Hoor Ho Jana, Ab Kaun Samjhaye Inn Pagal Ladkiyo Ko, Mumkin Nahi Kishmish Ka Angoor Ho Jana.

इश्क करते हैं लोग बड़े शोर के साथ, हमने भी किया था बड़े जोर के साथ, मगर अब करेंगे जरा गौर के साथ, क्यूँकि कल देखा था उसे किसी और के साथ। Ishq Karte Hain Log Bade Shor Ke Saath, Humne Bhi Kiya Tha Bade Zor Ke Saath, Magar Ab Karenge Jara Gaur Ke Saath, Kyunki Kal Dekha Tha Usey Kisi Aur Ke Saath.