शाम होते ही मेरा दिल उदास होता है, टूटे ख्वाबों के सिवा कुछ न पास होता है, तुम्हरी याद ऐसे वक़्त बहुत आती है, जब कोई बन्दर आस-पास होता है। Shaam Hote Hi Mera Dil Udaas Hota Hai, Toote Khwabon Ke Siwa Kuchh Na Paas Hota Hai, Tumhari Yaad Aise Waqt Bahut Aati Hai, Jab Koi Bandar Aas-Paas Hota Hai.

सफ़र लम्बा है दोस्त बनाते रहिये, दिल मिले ना मिले हाथ बढ़ाते रहिये, ताजमहल न बनाईये महंगा पड़ेगा, मगर हर तरफ मुमताज़ बनाते रहिये। Safar Lamba Hai Dost Banaate Rahiye, Dil Mile Na Mile Haath Barhate Rahiye, Taj Mahal Na Banaaiye Mahenga Padega, Magar Har Taraf Mumtaz Banate Rahiye.

क्या मस्त मौसम आया है, हर तरफ पानी ही पानी लाया है, तुम घर से बाहर मत निकलना, वर्ना लोग कहेंगे बरसात हुई नहीं और मेंढक निकल आया है। Kya Mast Mausam Aaya Hai, Har Taraf Pani Hi Pani Laya Hai, Tum Ghar Se Baahar Mat Niklna, Varna Log Kahenge Barsat Hui Nahi, Aur Mendhak Nikal Aaya Hai.

वफ़ा ढूढ़ने निकले थे ग़ालिब, Wi-Fi मिल गया उधर ही बैठ गये। Wafa Dhhoodne Nikla Tha Ghalib, Wi-Fi Mil Gaya Udhar Hi Baithh Gaya.

दूध माँगोगे तो हम खीर देंगे, दूध फट गया तो पनीर देंगे। Doodh Maangoge To Hum Kheer Denge, Doodh Fat Gaya To Paneer Denge.