उनको मालूम है कि उनके बिना हम टूट जाते हैं, फिर क्यूँ वो आज़माते हैं हमको बिछड़-बिछड़ कर। Unko Maloom Hai Ki UnKe Bina Hum Toot Jate Hain, Fir Kyun Wo Aazmate Hain Humko Bichhad-Bichhad Kar.

मुझे परहेज है ज़ख्मों की नुमाइश से, मेरे हमदर्द रहने दे दिले-बीमार की बातें। Mujhe Parhej Hai Zakhmo Ki Numaaish Se, Mere HumDard Rehne De Dil-e-Beemar Ki Baatein.

बिखरा वजूद, टूटे ख़्वाब, सुलगती तन्हाईयाँ, कितने हसीन तोहफे दे जाती है ये मोहब्बत। Bikhra Wajood, Toote Khwaab, Sulagti Tanhaiyan, Kitne Haseen Tohfe De Jati Hai Yeh Mohabbat.

वो रोए तो मगर मुझसे मुँह मोड़कर रोए, कोई मजबूरी होगी जो दिल तोड़कर रोए, मेरे सामने कर दिए मेरी तस्वीर के टुकड़े, मेरे बाद वो उन्हें जोड़-जोड़ कर रोए। Wo Roye To Magar Mujhse Moonh Modkar Roye, Koi Majboori Hi Hogi Jo Dil Tod Kar Roye. Mere Saamne Kar Diye Meri Tasvir Ke Tukde, Mere Baad Wo Unhein Jod-Jod Kar Roye.

ऐसा नहीं है कि अब तेरी जुस्तजू नहीं रही, बस टूट कर बिखरने की आरज़ू नहीं रही। Aisa Nahi Hai Ki Ab Teri Justjoo Nahi Rahi, Bas Toot Kar Bikharne Ki Aarzoo Nahi Rahi.