आँखें फूटें जो झपकती भी हों, शब-ए-तन्हाई में कैसा सोना। Aankhein Footein Jo Jhapakti Bhi Hon, Shab-e-Tanhai Mein Kaisa Sona.

मैं भी तनहा हूँ और तुम भी तन्हा, वक़्त कुछ साथ गुजारा जाए। Main Bhi Tanha Hoon Aur Tum Bhi Tanha, Waqt Kuchh Saath Gujara Jaye.

शायद इसी को कहते हैं मजबूरी-ए-हयात, रुक सी गयी है उम्र-ए-गुरेजां तेरे बगैर। Shayad Isi Ko Kehte Hain Majboori-e-Hayat, Ruk Si Gayi Hai Umr-e-Gurejan Tere Bagair.

तेरा पहलू तेरे दिल की तरह आबाद रहे, तुझपे गुजरे न क़यामत शब-ए-तन्हाई की। Tera Pehloo Tere Dil Ki Tarah Aabaad Rahe, Tujh Pe Gujre Na Qayamat Shab-e-Tanhayi Ki.

चलते-चलते अकेले अब थक गए हम, जो मंज़िल को जाये वो डगर चाहिए, तन्हाई का बोझ अब और उठता नहीं, अब हमको भी एक हमसफ़र चाहिए। Chalte-Chalte Akele Ab Thak Gaye Hum, Jo Manzil Ko Jaye Wo Dagar Chahiye. Tanhayi Ka Bojh Ab Aur UthTa Nahi, Ab Humko Bhi Ek HumSafar Chahiye,