मीठी सी खुशबू में रहते हैं गुमसुम, अपने अहसास से बाँट लो तन्हाई मेरी। Meethhi Si Khushboo Mein Rehte Hain GumSum, Apne Ehsaas Se Baant Lo Tanhaai Meri.

हुआ है तुझसे बिछड़ने के बाद ये मालूम, कि तू नहीं था तेरे साथ एक दुनिया थी। Hua Hai Tujhse Bichhadne Ke Baad Ye Maloom, Ke Tu Nahi Tha Tere Sath Ek Duniya Thi.

तेरे वजूद की खुशबु बसी है साँसों में, ये और बात है नजरों से दूर रहते हो। Tere Wajood Ki Khushbo Basi Hai Saanson Mein, Ye Aur Baat Hai Najron Se Door Rehete Ho.

रोते हैं तन्हा देख कर मुझको वो रास्ते, जिन पे तेरे बगैर मैं गुजरा कभी न था। Rote Hain Tanha Dekh Kar Mujhko Wo Raaste, Jin Pe Tere Bagair Main Gujra Kabhi Na Tha.

आज की रात... जो मेरी तरह तन्हा है, मैं किसी तरह गुजारूँगा चला जाऊंगा, तुम परेशाँ न हो बाब-ए-करम-वा न करो, और कुछ देर पुकारूंगा चला जाऊंगा। Aaj Ki Raat... Jo Meri Tarah Tanha Hai, Main Kisi Tarah Gujarunga Chala Jaaunga, Tum Pareshan Na Ho Baab-e-Karam-Wa Na Karo, Aur Kuchh Der Pukarunga Chala Jaaunga.