छोड़ दो तन्हा ही मुझको यारो, साथ मेरे रहकर क्या पाओगे, अगर हो गई तुमको मोहब्बत कभी, मेरी तरह तुम भी पछताओगे। Chhod Do Tanha Hi Mujhko Yaaro, Saath Mere Reh Kar Kya Paaoge, Agar Ho Gayi Aapko Mohabbat Kabhi, Meri Tarah Tum Bhi Pachhtaoge.

लौट आओ और मिलो उसी तड़प से, अब तो मुझ को मेरी वफाओं का सिला दो, देखे हैं बहुत इसने तन्हाई के मौसम, अब तो मेरे दिल को अपने दिल से मिला दो। Laut Aao Aur Milo Usee Tadap Se, Ab To Mujh Ko Meri Wafaon Ka Sila Do, Dekhe Hain Bahut Isne Tanhayi Ke Mausam, Ab To Mere Dil Ko Apne Dil Se Mila Do.

कभी पहलू में आओ तो बताएँगे तुम्हें, हाल-ए-दिल अपना तमाम सुनाएँगे तुम्हें, काटी हैं अकेले कैसे हमने तन्हाई की रातें, हर उस रात की तड़प दिखाएँगे तुम्हें। Kabhi Pehloo Mein Aao To Batayenge Tumhein, Haal-e-Dil Apna Tamaam Sunayenge Tumhein, Kaati Hain Akele Kaise Humne Tanhayi Ki Raatein, Har Uss Raat Ki Tadap Dikhayenge Tumhein.

ज़िन्दगी के ज़हर को यूँ पी रहे हैं, तेरे प्यार के बिना यूँ ज़िन्दगी जी रहे हैं, अकेलेपन से तो अब डर नहीं लगता हमें, तेरे जाने के बाद यूँ ही तन्हा जी रहे हैं। Zindagi Ke Zehar Ko Yoon Has Ke Pee Rahe Hain, Tere Pyar Bina Yoon Hi Zindagi Jee Rahe Hain, Akelepan Se To Ab Darr Nahi Lagta Humein, Tere Jaane Ke Baad Yoon Hi Tanha Jee Rahe Hain.

ना ढूंढ़ मेरा किरदार दुनियाँ की भीड़ में, वफादार तो हमेशा तन्हा ही मिलते है । Na Dhoondh Mera Kirdaar Duniya Ki Bheed Mein, Wafadar To Hamesha Tanha Hi Milte Hain.