मजबूरियाँ सारी हम दिल में छिपा लेते हैं, हम कहाँ रोते हैं हमारे हालात रुला देते हैं, हम तो हर पल याद करते हैं सिर्फ आपको, और आप भुला देने का इल्जाम लगा देते हैं। Majbooriyan Saari Hum Dil Mein Chhupa Lete Hain, Hum Kahan Rote Hain Humare Halaat Rula Dete Hain, Hum To Har Pal Yaad Karte Hain Sirf Aapko, Aur Aap Bhula Dene Ka Ilzam Laga Dete Hain.

तेरी बेरूखी का अंजाम एक दिन यही होगा, आखिर भुला ही देंगे तुझे याद करते करते। Teri Berukhi Ka Anjaam Ek Din Yehi Hoga, Aakhir Bhula Hi Denge Tujhe Yaad Karte Karte.

फिर उसी की याद में दिल बेक़रार हुआ है, बिछड़ के जिस से हुई शहर-शहर रुसवाई। Fir Usee Ki Yaad Mein Dil Beqarar Hua Hai, Bichhad Ke Jis Se Hui Shahar-Shahar Ruswayi.

थक गया है दिल-ए-वहशी मेरा फ़रियाद से भी, जी बहलता नहीं ऐ सनम तेरी याद से भी। Thak Gaya Hai Dil-e-Vaheshi Mera Fariyaad Se Bhi, Jee Bahelta Nahi Aye Sanam Teri Yaad Se Bhi.

जब तुम्हारी याद के ज़ख़्म भरने लगते हैं, फिर किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते हैं। Jab Tumhaari Yaad Ke Zakhm Bharne Lagte Hain, Fir Kisi Bahaane Tumhein Yaad Karne Lagte Hain.