ना जाने क्यों जब ये हवाएं मुझे छू कर गुज़रती है दिल पे एक दस्तक सी दे जाती है शायद इशारो में कहती है तुम आने वाले हो या फिर युही मुझे बहला कर चली जाती है

तुम ख्वाब हो तुम नींद हो जीने की हर उम्मीद हो तुम जान मेरी साँस मेरी तुम ही मेरी प्रीति हो तुम स्वप्न हो साकार हो तुम रुप हो आकार हो

अजीब सी कशिश है आप में कि हम आप के ख्यालों में खोये रहते हैं ये सोच कर के आप ख्वाबों में आओगे हम दिन में भी सोया करते हैं

कहते हैं कि प्यार और जहर में कोई फर्क नहीं होता है जहर पीने के बाद लोग मर जाते हैं और प्यार करने के बाद लोग जी नहीं पाते हैं वैलेंटाइन डे की शुभकामना

आपको पा कर अब खोना नहीं चाहते इतना खुश हो कर अब रोना नहीं चाहते यह आलम है हमारा आपकी जुदाई का आँखों में नींद है मगर सोना नहीं चाहते वैलेंटाइन डे पर भी जाग रहा हूँ आपके प्यार मैं