तहज़ीब के खिलाफ हुआ सच का बोलना, अब झूठ ज़िन्दगी के सलीक़े में आ गया। Tehzeeb Ke Khilaaf Hua Sach Ka Bolna, Ab Jhoothh Zindagi Ke Saleeke Mein Aa Gaya.

सारी फितरत नकाबों में छुपा रखी है, ​सिर्फ तस्वीर उजालों में लगा रखी है। Saari Fitrat Naqaabon Mein Chhupa Rakhi Hai, Sirf Tasveer Hi Ujalon Mein Laga Rakhi Hai.

घर से निकलो तो पता जेब में रख कर निकलो, हादसे इंसान की पहचान तक मिटा देते है। Ghar Se Niklo To Pata Jeb Mein Rakh Kar Niklo, Haadse Insaan Ki Pehchan Tak Mita Dete Hain.

हजारों लोग शरीक हुए थे जनाज़े में उसके, तन्हाइयों के खौफ से जो शख्स मर गया। Hajaron Log Shareek They Janaze Mein Uske, Tanhayiyon Ke Khauf Se Jo Shakhs Mar Gaya.

अपनी तस्वीर बनाओगे तो होगा एहसास, कितना दुश्वार है खुद को कोई चेहरा देना। Apni Tasvir Banaoge To Hoga Tumhein Ehsaas, Kitna Dushwar Hai Khud Ko Koi Chehra Dena.