जाहिर नहीं करता पर मैं रोज रोता हूँ, शहर का दरिया मेरे घर से निकलता है। Jaahir Nahi Karta Par Main Roj Rota Hoon, Shahar Ka Dariya Mere Ghar Se Nikalta Hai.

मेरा शहर तो बारिशों का घर ठहरा, यहाँ आँख हों या बादल बहुत बरसते हैं। Mera Shahar To Baarishon Ka Ghar Thehra Yahan Aankh Ho Ya Baadal Bahut Baraste Hain.

प्यास बुझ जाये ज़मीं सब्ज़ हो मंज़र धुल जाये, काम क्या-क्या न इन आँखों की तरी आये है। Pyaas Bujh Jaye Zamin Sabz Ho Manzar Dhul Jaye, Kaam Kya-Kya Na Inn Aankhon Ki Tari Aaye Hai.

सलीका हो अगर भीगी हुई आँखों को पढ़ने का, तो फिर बहते हुए आँसू भी अक्सर बात करते हैं। Saleeka Ho Agar Bheegi Hui Aankhon Ko Parhne Ka, To Fir Behte Hue Aansoo Bhi Aksar Baat Karte Hain.

मेरे दिल में न आओ वरना डूब जाओगे, ग़म के आँसू के सिवा कुछ नहीं इसके अंदर, अगर एक बार रिसने लगा जो पानी, तो कम पड़ जायेगा भरने के लिए समंदर। Mere Dil Mein Na Aao Varna Doob Jaoge, Gham Ke Aansoo Ke Siwa Kuchh Nahi Iske Andar, Agar Ek Baar Risne Laga Aankhon Se Paani, To Kam Pad Jayega Bharne Ke Liye Samandar.