कहने को कुछ भी न बचा हर बात हो गई, आओ कहीं शराब पिएँ कि रात हो गई। Kahne Ko Kuchh Bhi Na Bacha Har Baat Ho Gayi, Aao Kahin Sharab Piyein Ke Raat Ho Gayi.

थोड़ी सी पी लिया करते हैं जीने की तमन्ना में, डगमगाना भी जरूरी है संभलने के लिए। Thhodi Si Pee Liya Karte Hain Jeene Ki Tamanna Mein, DagMagana Bhi Jaroori Hai Sambhalne Ke Liye.

तुम्हारी बेरूखी ने लाज रख ली बादाखाने की, तुम आँखों से पिला देते तो पैमाने कहाँ जाते। Tumhari Berukhi Ne Laaj Rakhli BadaKhane Ki, Tum Aankho Se Pila Dete To Paimane Kahan Jate.

मेरी तबाही का इल्जाम अब शराब पर है, करता भी क्या और तुम पर जो आ रही थी बात। Meri Tabaahi Ka iljaam Ab Sharab Par Hai, Karta Bhi Kya Aur Tum Par Jo Aa Rahi Thi Baat.

मैं तोड़ लेता अगर वो गुलाब होती, मैं जवाब बनता अगर वो सवाल होती, सब जानते हैं मैं नशा नहीं करता, फिर भी पी लेता अगर वो शराब होती। Main Tod Leta Agar Wo Gulab Hoti, Main Jawab Banta Agar Wo Sawal Hoti, Sab Jante Hain Main Nasha Nahi Karta, Fir Bhi Pee Leta Agar Wo Sharab Hoti.