ज़िन्दगी बैठी थी अपने हुस्न पे फूली हुई, मौत ने आते ही सारा रंग फीका कर दिया। Zindagi Baithi Thi Apne Husn Pe Phooli Hui, Maut Ne Aate Hi Saara Rang Feeka Kar Diya.

ढूढ़ोगे कहाँ मुझको मेरा पता लेते जाओ, एक कब्र नई होगी एक जलता दिया होगा। Dhoodhoge Kahan MujhKo Mera Pata Lete Jaao, Ek Qabr Nayi Hogi Ek Jalta Diya Hoga.

मोहब्बत मुझे थी बस तुम्हीं से सनम, यादों में तुम्हारी यह दिल तड़पता रहा, मौत भी मेरी चाहत को रोक न सकी, कब्र में भी यह दिल धड़कता रहा। Mohabbat Mujhe Thi Bas Tumhin Se Sanam, Yadaon Mein Tumhari Yeh Dil Tadpta Raha, Maut Bhi Meri Chaahat Ko Rok Na Saki, Kabr Mein Bhi Yeh Dil Dhadakta Raha.

ये जमीं जब खून से तर हो गई है, ज़िन्दगी कहते हैं बेहतर हो गई है, हाथ पर मत खींच बेमतलब लकीरें, मौत हर पल अब मुक़द्दर हो गई है। Ye Zameen Jab Khoon Se Tar Ho Gayi Hai, Zindagi Kahte Hain Behtar Ho Gayi Hai, Hath Par Mat Kheench BeMatlab Lakeerein, Maut Har Pal Ab Muqaddar Ho Gayi Hai.

प्यार में सब कुछ भुलाए बैठे हैं, चिराग यादों के जलाये बैठे है, हम तो मरेंगे उनकी ही बाहों में, ये मौत से शर्त लगाये बैठे हैं। Pyar Mein Sab Kuchh Bhulaye Baithhe Hai, Chiraag Yaadon Ke Jalaye Baithhe Hai, Hum To Marenge Unki Hi Baahon Mein, Ye Maut Se Shart Lagaye Baithhe Hai.