सच्चे रिश्तों की ये गहराइयाँ तो देखिये, चोट लगती है हमें और चिल्लाती है माँ, हम खुशियों में माँ को भले ही भूल जायें, जब मुसीबत आ जाए तो याद आती है माँ। Sachche Rishto Ki Ye Gehraiyan To Dekhiye, Chot Lagti Hai Hamein Aur Chillati Hai Maa, Hum Khushiyon Mein Maa Ko Bhale Bhi Bhool Jayein, Jab Museebat Aa Jaye To Yaad Aati Hai Maa.

नहीं हो सकता कद तेरा ऊँचा किसी भी माँ से ऐ खुदा, तू जिसे आदमी बनाता है, वो उसे इंसान बनाती है। Nahi Ho Sakta Kad Tera Uncha Kisi Bhi Maa Se Ai Khuda, Tu Jise Aadmi Banata Hai Woh Use Insaan Banati Hai.

किसी भी ​मुश्किल का अब किसी को हल नहीं मिलता, ​शायद अब घर से कोई माँ के पैर छूकर नहीं निकलता​। Kisi Bhi Mushkil Ka Ab Kisi Ko Hal Nahi Milta, Shayad Ab Ghar Se Koi Maa Ke Pair Chhukar Nahi Nikalta.

वो डांट डांट कर खाना खिलाना याद आता है, मेरे वास्ते तेरा पैसा बचाना याद आता है। Wo Daant Daant Kar Khana Khilaana Yaad Aata Hai, Mere Vaaste Tera Paisa Bachana Yaad Aata Hai.

माँ मेरी खातिर तेरा रोटी पकाना याद आता है, अपने हाथों को चूल्हे में जलाना याद आता है। Maa Meri Khatir Tera Roti Pakaana Yaad Aata Hai, Apne Haathon Ko Chulhe Mein Jalana Yaad Aata Hai.