फितरत, सोच और हालात का फर्क है वरना, इन्सान कैसा भी हो दिल का बुरा नहीं होता। Fitrat, Soch, Aur Halaat Ka Fark Hai Verna, Insaan Kaisa Bhi Ho Dil Ka Bura Nahi Hota.

खुदा न बदल सका आदमी को आज भी यारों, और आदमी ने सैकड़ो खुदा बदल डाले। Khuda Na Badal Saka Aadmi Ko Aaj Bhi Yaaron, Aur Aadmi Ne Saikado Khuda Badal Daale.

जिन्हें महसूस इंसानों के रंजो-गम नहीं होते, वो इंसान हरगिज पत्थरों से कम नहीं होते। Jinhein Mahsoos Insaano Ke Ranj-o-Gham Nahi Hote, Wo Insaan Hargij Pattharon Se Kam Nahi Hote.

यहाँ लिबास की कीमत है आदमी की नहीं, मुझे गिलास बड़े दे शराब कम कर दे। Yehan Libaas Ki Keemat Hai Aadmi Ki Nahi, Mujhe Gilaas Bade De Sharaab Kam Kar De.

चंद सिक्कों में बिकता है इंसान का ज़मीर, कौन कहता है मुल्क में महंगाई बहुत है। Chand Sikkon Me Bikta Hai Insaan Ka Zamir, Kaun Kehta Hai Mulk Mein Mehgayi Bahut Hai.