ज़ख्म जो तूने दिया बहुत गहरा दिया, करके वादा तूने हमको भुला दिया, दर्द देने वाले तेरा दिल से शुक्रिया, जो जिंदगी का तूने मतलब सिखा दिया। Zakhm Jo Tu Ne Diya Bahut Gehra Diya, Karke Vaada Tu Ne Humko Bhula Diya, Dard Dene Wale Tera Dil Se Shukriya, Jo Zindagi Ka Tu Ne Matlab Sikha Diya.

मोहब्बत में लाखों ज़ख्म खाए हमने, अफ़सोस उन्हें हम पर ऐतबार नहीं, मत पूछो क्या गुजरती है मेरे दिल पर, जब वो कहते है हमें तुमसे प्यार नहीं। Mohabbat Mein Lakhon Zakhm Khaye Humne, Afsos Unhein Hum Par Aitbar Nahi, Mat Puchho Kya Gujarti Hai Mere Dil Par, Jab Woh Kehte Hain Humein Tumse Pyar Nahi.

ऐसी कर दी है तू ने मेरी हालत सनम, दिल के जख्म किसी को दिखा न पाउँगा, तुझसे किया है वादा तभी मजबूर हूँ, इसी लिए खुद को मैं मिटा न पाउँगा। Aisi Kar Di Hai Tu Ne Meri Halat Sanam, Dil Ke Zakhm Kisi Ko Dikha Na Paaunga, Tujhse Kiya Hai Vaada Tabhi Majboor Hoon, Isee Liye Khud Ko Main Mita Na Paaunga.

बात ऊँची थी मगर बात जरा कम आँकी, मेरे जज्बात की औकात जरा कम आँकी, वो फ़रिश्ता कहकर मुझे जलील करता रहा, मैं इंसान हूँ मेरी जात जरा कम आँकी। Baat Unchi Thi Magar Baat Jara Kaam Aanki, Mere Jazbaat Ki Aukaat Jara Kam Aanki, Wo Farishta Keh Kar Mujhe Jaleel Karta Raha, Main Insaan Hoon, Meri Jaat Jara Kam Aanki.

कुरेद-कुरेद कर बड़े जतन से हमने रखे हैं हरे, कौन चाहता है कि उनका दिया कोई ज़ख्म भरे। Kured-Kured Kar Bade Jatan Se Humne Rakhe Hain Hare, Kaun Chaahta Hai Ki Unka Diya Koi Zakhm Bhare.