Humein Mat Sataao Hum Sataye Huye Hain, Akele Rahne Ka Gham Uthhaye Huye Hain, Yoon Khilona Samajh Kar Na Khelo Hum Se, Hum Bhi Usi Khuda Ke Banaye Huye Hain. हमें मत सताओ हम सताए हुए हैं, अकेले रहने का ग़म उठाये हुए हैं, यूँ खिलौना समझ कर न खेलो हमसे, हम भी उसी खुदा के बनाये हुए हैं।

शिकायत क्या करूँ दोनों तरफ ग़म का फसाना है, मेरे आगे मोहब्बत है तेरे आगे ज़माना है, पुकारा है तुझे मंजिल ने लेकिन मैं कहाँ जाऊं, बिछड़ कर तेरी दुनिया से कहाँ मेरा ठिकाना है। Shiqayat Kya Karoon Dono Taraf Gham Ka Fasaana Hai, Mere Aage Mohabbat Hai Tere Aage Zamana Hai, Pukara Hai Tujhe Manzil Ne Lekin Main Kahan Jaaun, Bichhad Kar Teri Duniya Se Kahan Mera Thhikana Hai.

जब भी करीब आता हूँ बताने के लिए, जिंदगी दूर कर देती है सताने के लिए, महफ़िलों की शान न समझना मुझे, मैं अक्सर हँसता हूँ ग़म छुपाने के लिए। Jab Bhi Kareeb Aata Hoon Bataane Ke Liye, Zindagi Door Kar Deti Hai Sataane Ke Liye, Mehfilon Ki Shaan Na Samjhna MujhKo, Main Aksar Hansta Hoon Gham Chhupane Ke Liye,

मुलाकात तो हुई थी उनसे एक रोज मगर, हम उनको हाल-ए-दिल अपना सुनाते कैसे, हमारी तकदीर में ही लिखे थे ग़म, जख्म अपने हम उनको दिखाकर रुलाते कैसे। Mulakat To Huyi Thi Unse Ek Roj Magar, Hum Unko Haal-e-Dil Apna Sunate Kaise, Humari Takdeer Mein Hi Likhe The Gham, Zakhm Apne Hum Unko Dikhakar Rulate Kaise.

सोच सोचकर उम्र क्यूँ कम करूँ, वो नहीं मिला तो करूँ ग़म करूँ, न हुआ न सही दीदार उनका, किसलिए भला आँखें नम करूँ। Soch-Soch Kar Umr Kyun Kam Karoon, Wo Nahi Mila To Kyun Gham Karoon, Na Hua Na Sahi Deedar Unka, KisLiye Bhala Aankhein Nam Karoon.