हाल-ए-दिल तो खुल चुका है हर शख्स पर, हाँ मगर इस शहर में इक बेखबर भी देखा है। Haal-e-Dil To Khul Chuka Hai Har Shakhs Par, Haan Magar Iss Shahar Mein Ik Bekhabar Bhi Dekha Hai.

तुझे सोचूं तो पहलू से सरक जाता है दिल मेरा, मैं दिल पे हाथ रखकर धड़कनों को थाम लेता हूँ। Tujhe Sochun To Pehlu Se Sarak Jata Hai Dil Mera, Main Dil Pe Haath Rakhkar Dhadkano Ko Thaam Leta Hoon.

अनजाने में ये दिल न जाने क्या कर बैठा, मुझसे बिना पूछे ही फैसला कर बैठा, इस ज़मीन पर टूटा सितारा भी नहीं गिरता, और ये पागल चाँद से मोहब्बत कर बैठा। Anjaane Mein Ye Dil Na Jane Kya Kar Baitha, Mujhse Bina Poochhe Hi Faisla Kar Baitha, Iss Zamin Par Toota Hua Sitara Bhi Nahi Girta, Aur Ye Pagal Chaand Se Mohabbat Kar Baitha.

कमी मुझ में तो बस इतनी सी है मेरे दोस्तों, हाल-ए-दिल अपना सभी को सुना देता हूँ, मालूम है मुझको कि कोई साथ नहीं देता, फिर भी दिल से सबको अपना बना लेता हूँ। Kami Mujh Mein To Bas Itni Si Hai Mere Dosto, Haal-e-Dil Apna Sabhi Ko Suna Deta Hoon Main, Maloom Hai Mujhko Ki Koyi Saath Nahi Deta, Fir Bhi Dil Se SabKo Apna Bana Leta Hoon Main.

अच्छी सूरत पे गजब टूट के आना दिल का, याद आता है हमें हाय ज़माना दिल का, इन हसीनों का लड़कपन ही रहे या अल्लाह, होश आता है तो याद आता है सताना दिल का। Achhi Soorat Pe Ghajab Toot Ke Aana Dil Ka, Yaad Aata Hai Humein Hay Zamana Dil Ka, Inn Haseeno Ka Ladakpan Hi Rahe Ya Allah, Hosh Aata Hai To Yaad Aata Hai Sataana Dil Ka.