और भी कर देता है मेरे दर्द में इज़ाफ़ा, तेरे रहते हुए गैरों का दिलासा देना। Aur Bhi Kar Deta Hai Mere Dard Mein Izafa, Tere Rahte Huye Ghairon Ka Dilaasa Dena.

ज़हर देता है कोई, तो कोई दवा देता है, जो भी मिलता है मेरा दर्द बढ़ा देता है। Zeher Deta Hai Koi, Toh Davaa Deta Hai, Jo bhi Milta Hai Mera Dard Barha Deta Hai.

हर एक हसीन चेहरे में गुमान उसका था, बसा न कोई दिल में ये मकान उसका था, तमाम दर्द मिट गए मेरे दिल से लेकिन, जो न मिट सका वो एक नाम उसका था। Har Ek Haseen Chehre Mein Gumaan Uska Tha, Basa Na Koi Dil Mein Ye Makaan Uska Tha, Tamaam Dard Mit Gaye Mere Dil Se Lekin, Jo Na Mit Saka Woh Ek Naam Uska Tha.

रोने की सजा है न रुलाने की सजा है, ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सजा है, हँसती हुई आँखों में आ जाते हैं आँसू, ये उस शख्स से दिल लगाने की सजा है। Rone Ki Saza Hai Na Rulaane Ki Saza Hai, Ye Dard Mohabbat Ko Nibhane Ki Saza Hai, Hansti Huyi Aankhon Mein Aa Jate Hain Aansoo, Ye Uss Shakhs Se Dil Lagane Ki Saza Hai.

कैसे बयान करें आलम दिल की बेबसी का, वो क्या समझे दर्द आँखों की इस नमी का, उनके चाहने वाले इतने हो गए हैं अब, उन्हें कोई एहसास ही नहीं हमारी कमी का। Kaise Bayaan Karein Aalam Dil Ki Bebasi Ka, Wo Kya Samjhe Dard Aankhon Ki Iss Nami Ka, Unke Chhahne Wale Itne Ho Gaye Hai Ab, Unhein Koi Ehsaas Hi Nahi Humari Kami Ka.