वादे तो हजारों किये थे उसने मुझसे, काश एक वादा ही उसने निभाया होता, मौत का किसको पता कि कब आएगी, पर काश उसने ज़िन्दा जलाया न होता। Vaade To HaJaaron Kiye The Usne Mujhse, Kaash Ek Vaada Hi Usne Nibhaya Hota, Maut Ka Kisko Pata Ki Kab Aayegi, Par Kaash Usne Zinda Jalaya Na Hota.

Toota To Ajeez Aur Hua Ahel-e-Wafa Ko, Dil Bhi Kahin Uss Shokh Ka Paimaan To Nahi Hai. Kuchh Nakhs Teri Yaad Ke Baaki Hain Abhi Tak, Dil Be-Sar-o-Saamaan Sahi Veeraan To Nahi Hai. Hum Dard Ke Maare Hi Giraan-Jaan Hain Vagrana, Jeen Teri Furkat Mein Kuchh Aasaan To Nahi Hai. टूटा तो अज़ीज़ और हुआ अहल-ए-वफ़ा को, दिल भी कहीं उस शोख़ का पैमाँ तो नहीं है। कुछ नक़्श तिरी याद के बाक़ी हैं अभी तक, दिल बे-सर-ओ-सामाँ सही वीराँ तो नहीं है। हम दर्द के मारे ही गिराँ-जाँ हैं वगर्ना, जीना तिरी फ़ुर्क़त में कुछ आसाँ तो नहीं है।

Aaj Tak Yaad Hai Wo Shaame-Judai Ka Samaan, Teri Aawaaz Ki Larzish Tere Lehje Ki Thakan. आज तक याद है वो शाम-ए-जुदाई का समाँ, तेरी आवाज़ की लर्ज़िश तिरे लहजे की थकन।

हजूम में था वो खुल कर न रो सका होगा, मगर यकीन है कि शब भर न सो सका होगा। Hajoom Mein Tha Wo Khul Kar Na Ro Saka Hoga, Magar Yakeen Hai Ki Shab Bhar Na So Saka Hoga.

उसकी चाहत का भरम क्या रखना, दश्त-ए-हिजरां में क़दम क्या रखना, हँस भी लेना कभी खुद पर मोहसिन, हर घडी आँख को नम क्या रखना। Uski Chaahat Ka Bharam Kya Rakhna, Dasht-e-Hizran Mein Kadam Kya Rakhna, Hans Bhi Lena Kabhi Khud Par Mohsin, Har Ghadi Aankh Ko Nam Kya Rakhna.