अगर होती नहीं वफ़ा तो जफा ही किया करो, तुम भी तो कोई रस्म-ए-मोहब्बत अदा करो, हम तुम पे मर मिटे तो ये किसका कसूर है, आईना ले के हाथ में खुद फैसला करो। Agar Hoti Nahi Wafa To Jafa Hi Kiya Karo, Tum Bhi To Koi Rasm-e-Mohabbat Adaa Karo, Hum Tum Pe Mar Mite To Ye Kiska Kasoor Hai, Aayina Le Ke Haath Mein Khud Faisla Karo.

ये बेख्याली, ये लिबास, ये गेसू खुले हुए, सीखी कहाँ से तुमने ये अदाएं नई नई। Ye BeKhayali, Ye Libaas, Ye Ghesu Khule Huye, Seekhi Kahan Se Tum Ne Ye Adaayein Nayi-Nayi.

तेरे हुस्न को किसी परदे की ज़रूरत ही क्या है, कौन रहता है होश में तुझे देखने के बाद। Tere Husn Ko Kisi Parde Ki Jarurat Hi Kya Hai, Kaun Rehta Hai Hosh Mein Tujhe Dekhne Ke Baad.

आज उसकी एक नजर पर मुझे मर जाने दो, उसने लोगों बड़ी मुश्किल से इधर देखा है, क्या गलत है जो मैं दीवाना हुआ सच कहना, मेरे महबूब को तुम ने भी अगर देखा है। Aaj Uski Ek Najar Par Mujhe Mar Jaane Do, Usne Logon Badi Mushkil Se Idhar Dekha Hai, Kya Galat Hai Jo Main Deewana Hua Sach Kehna, Mere Mahboob Ko Tumne Bhi Agar Dekha Hai.

उस हुस्न-ए-बेमिसाल को देखा न आज तक, जिस के तसुव्वरात ने जीना सिखा दिया। Uss Husn-e-BeMisaal Ko Dekha Na Aaj Tak, Jis Ke Tasawwuraat Ne Jeena Sikha Diya.